यशपाल के सर्वश्रेष्ठ 16 अनमोल विचार

Yashpal Quotes in Hindi

Yashpal Quotes in Hindi

यशपाल के सुविचार

यशपाल क्रांतिकारी और लेखक दोनों थे। मुंशी प्रेमचंद के बाद हिंदी के कथाकारों में यशपाल का ही नाम आता है। यह बचपन से क्रांतिकारी आंदोलनों से जुड़े रहे। बाद में इन्होंने हिंदी साहित्य को अपनाया। पहले यह काम बंदूक की गोली से करते थे और बाद में यही काम साहित्य की बोली से।

यशपाल के प्रेरक कथन

जगती हुई चींटी की शक्ति सोते हुए हाथी से अधिक होती है।

यशपाल

हीरे पर धूल जमने से क्या वह हीरा नहीं रहता है।

यशपाल

सोने की खान से लोहा नहीं पैदा हो सकता।

यशपाल

न्याय के कभी लोगों की इच्छा का अनुसरण नहीं करता।

यशपाल

जीवन के आनंद से जीवन रक्षा की चिंता ज्यादा प्रबल हो जाती है

यशपाल

जीवन की सार्थकता अधिकार और सामर्थ्य में है।

यशपाल

यशपाल के मोटिवेशनल कोट्स

आपकी प्रतिज्ञा बदल जाने से प्रतिज्ञा का आधार नहीं रखता।

यशपाल

इस संसार में बल ही प्रधान है, जैसे की धन-बल, जन-बल।

यशपाल

संसार केवल शक्तिशाली व्यक्तियो के लिए हैं।

यशपाल

कुलवान नारी के लिए स्वतंत्रता कहां होती हैं? केवल वेश्या स्वतंत्र होती हैं।

यशपाल

इस शरीर के सुक्ष्म गुण है: मनुष्य के विचार और अनुभव की शक्ति।

यशपाल

परिवर्तन ही अमरता का अर्थ हैं।

यशपाल

जीवित होते हुए भी मृतवत व्यवहार करने का क्या लाभ?

यशपाल

जो गतिमान है वह सजीव है और जो स्थिर है वह निर्जीव हैं।

यशपाल

कायरता और निरुत्साह, वीर पुरुष को शोभा नहीं देता है

यशपाल

शांति ना तो वैभव में है, ना हीं प्रभुता में और ना ही तृप्ति में, शांति तो केवल मनाशक्ति में हैं

यशपाल