अपनी ग़लती को स्वीकार करने के 5 जबरदस्त फायदे

गलती क्यो स्वीकार करनी चाहिए?

गलती मानने के जबरदस्त फायदे

ग़लतियाँ हमेशा माफ की जा सकती हैं अगर आपमें
उन्हें स्वीकार करने का साहस हो।

हर कोई गलती करता है लेकिन लोग ग़लतियाँ स्वीकार करने में शर्म महसूस करते हैं। अगर आप अपने काम के प्रति, अपने आसपास के लोगों के प्रति और अपने खुद के प्रति ईमानदार हैं तो आपको गलती स्वीकारने से डरना नहीं चाहिए। यह बहुत सारी समस्याओं को दूर कर सकता है।

हो सकता है कि उसी वक्त अपनी गलती मानना कठिन होता हो क्योंकि अपनी गलती मानने में बहुत साहस की जरूरत पड़ती हैं। लेकिन गलती स्वीकार करना आपको भविष्य के किसी नुकसान से बचा सकता है। गलती स्वीकारने की भी एक कला होती है जिसे आपको जरूर सीखना चाहिए।

यहां पर गलती स्वीकारने के बहुत सारे फायदे नीचे दिए गए हैं:

गलती मानने के 5 फायदे

1. आपको अपराध बोध (ग्लानि) से बचाता है

हो सकता है कि आपको भी गलती छुपाना ज्यादा आरामदायक और सुरक्षित लगता हो। लेकिन ये तो पक्का हैं कि आप अपने भीतर ही भीतर असहज महसूस करेंगे।

जब आप अपनी गलती छुपाते हो और इसके बारे में झूठ बोलते हो तो आप अपराध बोध की भावना से गिर जाते हो और यह अपराध बोध की भावना समय के साथ और गहरी होती जाती है और यह आपको अंदर से खोखला कर देती हैं।

लेकिन गलती समय पर स्वीकार कर लोगे तो इस तरह की परिस्थिति से बच सकते हो। गलती स्वीकारना आपको मजबूत बना देगा, बिना किसी अपराध बोध और शर्म के।

2. आपको झूठ बोलने की जरूरत नहीं पड़ेगी

हम जानते हैं कि एक गलती को छुपाने के लिए अपने को बहुत सारे झूठ बोलने पड़ते हैं। लेकिन जब गलती स्वीकार कर लोगे तो फिर झूठ बोलने की क्या जरूरत। गलती स्वीकारने का यह सबसे बड़ा फायदा हैं और गलती स्वीकारने में आपको इतनी परेशानी नहीं होगी जितनी गलती छुपाने से हो सकती है।

आप गलती स्वीकार करोगे तो आपको यह याद रखने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी कि आपने किस जगह, कौनसा झूठ बोला था।

3. गलती सुधारने की ज्यादा संभावना है

यदि आप गलती सुधारना चाहते हैं या आगे भविष्य की गलतियों से बचना चाहते हैं, तो सबसे पहले वह गलती स्वीकार करें।

अपनी गलती को स्वीकार करने से आप सही गलत के बीच अंतर कर पाएंगे। तो ज्यादा संभावना है कि आप उसे ठीक भी कर पाएंगे। इसलिए लोग क्या कहेंगे इसे छोड़ कर उसे ठीक करने के लिए गलती स्वीकार करें।

और अपनी गलतियों से जितना ज्यादा हो सके सीखने की कोशिश करें।

याद रखें आपकी गलतियां और इनको स्वीकार करने की काबिलियत और इनसे सीखने की ललक, आप को महान इंसान बना देगी।

4. आगे बढ़ने में मदद करेगा

गलती स्वीकार करना आपको आगे बढ़ना में भी मदद करता है।

आपका आगे बढ़ना असंभव होगा, यदि आप भूतकाल के किसी अपराध बोध से ग्रसित हो। क्योंकि जो भी गलती की है उसे न स्वीकारने पर मन में एक तरह का अपराध बोध रह जाता है। वह ना चाहते हुए भी आपके साथ आएगा और यह आपको आगे बढ़ने से रोकेगा।

इसलिए जितनी जल्दी हो सके गलती स्वीकार करें ताकि आप बिना किसी बोझ के, अपने अतीत को बुलाकर, वर्तमान समय पर फोकस करके आगे बढ़ सके। इस तरह आप गलती स्वीकारने से आगे बढ़ जाएंगे।

5. आपको विनम्र बनाएगा

कहते हैं कि जीवन में कभी माफी मांगनी पड़े या आपको झुकना पड़े तो कोई बात नहीं, क्योंकि झुकता वही है, जिसमे जान होती है। वरना अकड़ तो मुर्दे की पहचान होती है।

तो आप गलतियां छुपा के कठोर ना बने। गलतियां सबसे होती हैं। कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं होता है इसलिए गलतियां स्वीकारने में हिचकिचाना नहीं चाहिए। अगर आप अपना अड़ियल स्वभाव छोड़कर अपनी गलती स्वीकारते हैं, तो लोगों के बीच आप विनम्र स्वभाव के व्यक्ति बन जाओगे।

गलती स्वीकार लो और माफी मांग लो, इससे परिस्थितियां और खराब होने से बच जाएगी।

और कहते हैं कि

हर गलती माफ की जा सकती है अगर आप में स्वीकारने का साहस हो।

दोस्तों यह थे गलती स्वीकारने के शानदार फायदे। आपको यह लेख कैसा लगा जरूर बताइए और क्या आपने भी कभी गलती की है? यदि हां तो क्या आपने उसे स्वीकार किया है? आप हमें कमेंट के द्वारा जरूर बताएं। धन्यवाद 🙂

अपना मूल्यवान कमेंट यहाँ लिखे