कभी हार ना माने-फैंटास्टिक हिंदी कहानी

प्रेरणादायक हिंदी कहानी

HINDI KAHANIYAHINDI KAHANIYA

एक दिन एक आदमी ने अपनी ज़िंदगी से परेशान होकर आत्महत्या करने का मन बना लिया। उसको ओर जीने का कोई मतलब नहीं दिख रहा था।

उस आदमी ने लास्ट बार भगवान् से बात करने की ठानी।

उसने भगवान् से पूछा, ” प्यारे भगवान, मुझे कोई एक अच्छा सा कारण बता सकते हो आत्महत्या नहीं करने का”
भगवान ने जवाब दिया, “अपने आसपास देखो। क्या तुम घास ओर बांस को देख रहे हो?”

“जी, बिलकुल देख रहा हूँ” आदमी बोला।

भगवान् बोले, “जब मेने घास ओर बांस के बीज बोये थे, मेने उनकी बड़ी देखभाल की।

मैने प्रकाश दिया। मैने पानी सींचा।

घास बहुत जल्दी जमीन से निकल कर बढ़ने लगी।ओर जल्दी ही जमीन को हरी भरी कर दिया

लेकिन बांस के बीज से अभी कुछ भी नहीं निकला। फिर भी मैने उस पर हार नहीं मानी। में लगातार पानी देता रहा।

दूसरे साल घास बहुत ही अच्छी ओर भरपूर हो गई। लेकिन बांस के बीज से कुछ नहीं निकला। मेने फिर भी उस पर हार नहीं मानी।

तीसरे साल भी बांस के बीज से कुछ नहीं निकला।

तभी चौथे साल जमीन से एक छोटा अंकुर उभरा। घास के मुकाबले ये कुछ भी नहीं था, यानि की ये बहुत छोटा था।
लेकिन सिर्फ 6 महीनो में बांस 100 फ़ीट तक लम्बा हो गया।

इसने अपनी जड़ो को फैलाने ओर मजबूत बनाने में 3 साल लगाए। इन जड़ो ने बांस को मजबूत बनाया ओर वो दिया जो इसको जीवित रहने के लिए जरुरी था।”

भगवान ने आगे ओर कहा, “प्यारे बालक, में अपने किसी भी जीव को या रचना को इतनी चुनोतिया ही देता हूँ जो वो सहन कर पाए।

क्या तुम जानते हो, अभी जो भी तुम चुनोतियो का सामना कर रहे हो, वो वास्तव में तुम्हे अपनी जड़ो को मजबूत करने के लिए हैं।

मैने जिस प्रकार बांस की देखभाल नहीं छोड़ी, उसी प्रकार में तुमको भी अकेला नहीं छोडूंगा।

अपने आप की किसी से तुलना मत करो। बांस का घास की तुलना में एक अलग उद्देश्य हैं।फिर भी वे दोनों जंगल को सुंदर बनाते हैं।

“तुम्हारा समय भी आने वाला हैं और मुझे पता हैं यह जरूर आएगा। तुम बहुत ऊपर उठोगे”, भगवान् ने उस आदमी से कहा।

“कितना ऊपर में उठ सकता हूँ” उस आदमी ने पूछा।

“जितना तुम चाहो उतना। और महान बनके मेरी शोभा बढ़ाओ।” भगवान् ने कहा।

वो आदमी वापस आ गया। और दुगुने उत्साह के साथ अपनी जड़े मझबूत करके महान बन गया।

दोस्तों आशा हैं इस कहानी की हर एक लाइन आपकी मदद करेगी।

और याद रखे…..कभी हार नहीं माने…कभी नहीं…कभी भी नहीं।

याद रखे ईश्वर हमेशा हमारे साथ हैं।

केसी लगी ये कहानी हमें कमेंट के द्वारा जरुर बताये।

दोस्तों कैसी लगी ये कहानी हमे कमेंट करके जरूर बताये। और भी बहुत सारी हिंदी नैतिक कहानिया, नैतिक शिक्षा की कहानिया, मोटिवेशनल कहानिया, अच्छी अच्छी कहानिया और प्रेरणादायक कहानिया पढ़ने के लिए यहाँ विजिट करे।आपका इस धाकड़ बाते ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्।

अगर आपके पास भी कोई प्रेरणादायक लेख, कहानी, निबंध या फिर कोई जानकारी हैं, जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं, तो आप हमे dhakadbaate@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं। पसंद आने पर हम आपके नाम के साथ इस ब्लॉग पर पब्लिश करेंगे। साथ ही आप हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक कीजिये। धन्यवाद!

Read more Hindi stories:

अपना मूल्यवान कमेंट यहाँ लिखे