मानवता-हिंदी कहानी

नैतिक शिक्षा की कहानिया

HINDI KAHANIYA

एक पिता और पुत्र मंदिर गए।

मंदिर के प्रवेश द्वार पर शेर की मुर्तिया बनी हुई थी।

“पिताजी, भागो यहां से, ये शेर हम दोनों को खा जायेंगे।”, बेटा चिल्लाया।

पिता ने बेटे को शांत करते हुए कहा, “डरो मत बेटा, ये केवल मुर्तिया हैं। हमे नुकसान नहीं पहुचायेगी।”

अच्छी अच्छी कहानिया

बेटे ने जवाब दिया, “यदि शेर की मूर्तिया नुकसान नहीं पहुचायेगी तो भगवान् की मुर्तिया हमे कैसे आर्शीवाद दे सकती हैं।”

बेटे की इस बात ने पिता को अंदर तक झकझोर दिया।

पिता ने डायरी में लिखा, “में अभी भी अपने बच्चे के जवाब पर निःशब्द हूँ। मैंने ईश्वर को मूर्तियों के बजाय मनुष्यो में खोजना शुरू कर दिया। मुझे ईश्वर तो नहीं मिले, लेकिन मुझे मानवता मिल चुकी थी।

दोस्तों कैसी लगी ये कहानी हमे कमेंट करके जरूर बताये। और भी बहुत सारी हिंदी नैतिक कहानिया, नैतिक शिक्षा की कहानिया, मोटिवेशनल कहानिया, अच्छी अच्छी कहानिया और प्रेरणादायक कहानिया पढ़ने के लिए यहाँ विजिट करे।आपका इस धाकड़ बाते ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्।

Read more stories:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *