टॉप 19 गौर गोपाल दास के अनमोल विचार

गौर गोपाल दास के सुविचार

Gaur Gopal Das Quotes in HindI

Gaur Gopal Das Quotes in Hindi

यदि आप अपने महसूस करने के तरीके को बदलना चाहते हैं, तो अपने जीने के तरीके को बदलें।

गौर गोपाल दास

हर लम्हा अच्छी तरह से जीना ही समग्र कल्याण का रहस्य है।

गौर गोपाल दास

अपने जीवन को मोमबत्ती की तरह बनाओ जो जलती जाती है लेकिन जाते-जाते लोगों के जीवन में उजाला कर जाती है

गौर गोपाल दास

आप जो करना पसंद करते हैं उसे जरूर करें, लेकिन जो आपको करना है, उससे प्यार करना शुरू करें। यही खुशी का राज है।

गौर गोपाल दास

यह अजीब है कि तलवार (SWORD) और शब्दों(WORDS) में समान अक्षर हैं। इससे भी अधिक विचित्र बात यह है कि अगर ठीक से संभाला नहीं गया तो उनका प्रभाव भी एक समान होता है।

गौर गोपाल दास

गौर गोपाल दास के अनमोल वचन

जब तक मनुष्य दूसरे की उन्नति से जलता रहेगा, तब तक वह सुख और शांति का अनुभव नहीं कर पाएगा।

गौर गोपाल दास

अपने विश्वास को मजबूत करो और आपकी सारी शंकाएँ दूर हो जाएगी।

गौर गोपाल दास

जब हम एक ही चुटकुले पर बार-बार नहीं हँस सकते हैं तो फिर एक ही समस्या पर बार-बार क्यों रोते हैं

गौर गोपाल दास

यदि आप वास्तव में जानना चाहते हैं कि आप कितने अमीर हैं, एक आंसू निकाले और देखें कि कितने उस आंसू को पोंछने के लिए आगे आते हैं।

गौर गोपाल दास

आप जीवन में कितना ऊपर उठेंगे, यह निर्भर करता है, आपके मनोबल पर, आपकी धारणाओं पर, आपके एटीट्यूड पर।

गौर गोपाल दास

गौर गोपाल दास के प्रेरक कथन

एक उद्देश्य के लिए काम करें, तालियों के लिए नहीं। अपने जीवन को व्यक्त करने के लिए जिएं, किसीको प्रभावित करने के लिए नहीं।

गौर गोपाल दास

हम जो कर सकते हैं उस पर ध्यान केंद्रित करना, विकास के लिए सबसे शक्तिशाली उत्प्रेरक है।

गौर गोपाल दास

प्रबुद्ध लोगों के प्रभावों में से एक है कि उनके साथ रहने भर से लोग प्रेरित महसूस करने लग जाते हैं।

गौर गोपाल दास

जो गलती का पछतावा करता है, वह न केवल इसके बारे में बुरा महसूस करता है, बल्कि इसे एक परिणाम के रूप में स्वीकार करने और इसे सुधारने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए तैयार होता है।

गौर गोपाल दास

आत्म-अनुशासन आपके दिमाग की जिम्मेदारी लेने और इसे स्वयं के हित के लिए कार्य करने के लिए निर्देश देना हैं।

गौर गोपाल दास

दुसरो पर अपनी राय मत बनाओ, आप उनकी कहानी नही जानते हैं।

गौर गोपाल दास

खुशी एक तितली की तरह लगती है। ओह! इतना करीब है, लेकिन जब हम इसे पकड़ने की कोशिश करते हैं, तो यह उड़ जाती है।

गौर गोपाल दास

लोग हमारे कहने से नही सीखते हैं, वे हमारे काम के उदाहरण से सीखते हैं।

गौर गोपाल दास

आगे बढ़ना और बदलाव को स्वीकार करना ज्ञान और परिपक्वता का प्रतीक है।

गौर गोपाल दास

ऐसे ही और मोटिवेशनल कोट्स पढ़े