मन को शांति देते गौतम बुद्ध के 17 सुविचार

Gautam Buddha Quotes In Hindi – भगवान बुद्ध के अनमोल विचार

गौतम बुद्ध के सुविचार

विश्व के प्रसिद्द धर्म सुधारकों एवं दार्शनिकों में से एक गौतम बुद्ध ने अपनी शिक्षाओं के आधार पर बौद्ध धर्म की स्थापना की।

आइये आज हम भगवान बुद्ध के अनमोल वचनों को पढ़कर शांति का अनुभव करते है।

भगवान बुद्ध के सुविचार Lord Buddha Quotes in Hindi

एक जलते हुए दीपक से हजारों दीपक रौशन किए जा सकते है, फिर भी उस दीपक की रौशनी कम नहीं होती हैं। उसी तरह खुशियाँ भी बाँटने से बढ़ती है, कम नहीं होती।

गौतम बुद्ध

इंसान के भीतर ही शांति का वास होता है, इसे बाहर ना खोजे।

गौतम बुद्ध

शरीर को स्वस्थ रखना हमारा कर्त्तव्य है, नहीं तो हम अपने दिमाग को स्वस्थ और मजबूत नहीं रख पाएंगे

गौतम बुद्ध

इस पूरी दुनिया में इतना अन्धकार नहीं है कि वो एक छोटे से दीपक के प्रकाश को मिटा सके।

गौतम बुद्ध

नफरत से नफरत कभी खत्म नहीं हो सकती। नफरत को केवल प्यार द्वारा ही समाप्त किया जा सकता है। यह एक प्राकृतिक सत्य है।

गौतम बुद्ध

अगर आप वाकई में अपने आप से प्यार करते है, तो आप कभी भी दूसरों को दुःख नहीं पहुंचा सकते।

गौतम बुद्ध

खुशियों का कोई अलग रास्ता नहीं, खुश रहना ही रास्ता है।

गौतम बुद्ध

क्रोधित रहना, जलते कोयले को किसी दूसरे पर फेंकने की इच्छा से पकड़े रहने के समान है। यह सबसे पहले खुद को ही जलाता है।

गौतम बुद्ध

महात्मा गौतम बुद्ध के सुविचार Gautam Buddha Quotes In Hindi

मंजिल तक पहुँचने से ज्यादा महत्वपूर्ण, मंजिल तक की यात्रा अच्छे से करना होता है।

गौतम बुद्ध

हजारों शब्दों से अच्छा वो एक शब्द होता हैं जो शांति लाता है।

गौतम बुद्ध

आप चाहें जितनी किताबें पढ़ लें, कितने भी अच्छे प्रवचन सुन लें उनका कोई फायदा नहीं होगा, जब तक कि आप उनको अपने जीवन में नहीं अपनाते।

गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध के प्रेरक कथन Buddha Motivational Quotes

भूतकाल में मत उलझो, भविष्य के सपनों में मत खो जाओ। अभी वर्तमान पर ध्यान दो। यही खुश रहने का रास्ता है।

गौतम बुद्ध

हजारों लड़ाइयाँ जीतने से अच्छा होगा कि तुम स्वयं पर विजय हासिल कर लो। फिर जीत हमेशा तुम्हारी होगी। इसे तुमसे कोई नहीं छीन सकता, न देवता और न दानव।

गौतम बुद्ध

त्तुम्हे अपने क्रोध के लिए सजा नहीं मिलती बल्कि तुम्हे क्रोध ही सजा देता है।

गौतम बुद्ध

गौतम बुद्धा के अनमोल वचन

हम जैसा सोचते हैं, वैसा बन जाते हैं।

गौतम बुद्ध

चन्द्रमा के जैसे, बादलों के पीछे से निकलो…खूब चमको।

गौतम बुद्ध

क्रोध को पाले रखना खुद ज़हर पीकर दूसरे के मरने की अपेक्षा करने जैसा है।

गौतम बुद्ध

Leave a comment