अटल बिहारी वाजपेयी के 8 प्रेरक कथन

अटल बिहारी वाजपेयी के अनमोल विचार

  1. मेरे पास भारत का एक दृष्टिकोण है- भारत भूख और भय से मुक्त बनाने का, भारत को निरक्षरता से मुक्त करने का और यही ये चाहता है।
    I have a vision of India-an India free of hunger and fear, an India free of illiteracy and want.

  2. सामाजिक न्याय के बिना स्वतंत्रता अपूर्ण है।
    Freedom is incomplete without social justice.

  3. HINDI ANMOL VACHAN SUVICHARआप दोस्तों को बदल सकते हैं लेकिन पड़ोसी नहीं।
    You can change friends but not neighbors.

    भगत सिंह के 20 क्रांतिकारी विचार Famous Quotes of Bhagat Singh in Hindi

  4. यदि आपको किसी विशेष पुस्तक में कुछ भी पसंद नहीं है, तो बैठकर चर्चा करें। एक पुस्तक पर प्रतिबंध लगाना इसका समाधान नहीं है। हमें वैचारिक रूप से इसे निपटाना होगा।
    If you do not like anything in a particular book, then sit and discuss it. Banning a book is not a solution. We have to tackle it ideologically.

  5. परिवार कल्याण की सफलता महिलाओं को अपने जीवन के साथ पूर्ण स्वतंत्रता देने पर निर्भर करती है। समय की आवश्यकता यह है कि लोगों को अपनी सुविधा के अनुसार अपने परिवारों के लिए योजना बनाये और जरुरी स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त होनी चाहिए।
    The success of family welfare depends on giving women complete freedom with their lives. The need of the hour is that people should plan their families as per their convenience and get the bare minimum health facilities.

  6. हमारे परमाणु हथियार, केवल दुसरो के परमाणु हमलो से निपटने के लिए हैं।
    Our nuclear weapons are meant purely as a deterrent against nuclear adventure by an adversary.

  7. भारत में बहादुर युवा पुरुषों और महिलाओं की कोई कमी नहीं है और यदि उन्हें मौका मिलता है और मदद मिलती है तो हम अंतरिक्ष की खोज में अन्य देशों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं और इन्ही में से कोई भारत के सपनो को पूरा करेगा।
    India has no dearth of brave young men and women and if they get the opportunity and help then we can compete with other nations in space exploration and one of them will fulfill her dreams.

  8. हमें आशा है कि दुनिया प्रबुद्ध आत्म-रुचि की भावना में कार्य करेगी।
    We hope the world will act in the spirit of enlightened self-interest.

    READ MORE:

Leave a comment