मददगार बने दिल छू लेने वाली कहानी

Hindi kahani

HINDI MOTIVATIONAL STORY

एक आदमी और उसकी पत्नी सुबह 3 बजे उठे क्योकि कोई जोर जोर से दरवाजा खटखटा रहा था।

आदमी उठा और दरवाजा खोला। उसने देखा कि सामने बारिश में एक आदमी खड़ा था जिसने शराब पी रखी थी। वो धक्का लगाने के लिए बोल रहा था।

पति ने मना कर दिया और कहा रात के 3 बज रहे हैं, पता नहीं कहा कहा से आ जाते हैं। और जोर से दरवाजा बंद कर दिया।

पत्नी ने पूछा, “कौन था।”

“कोई शराब पिया हुआ आदमी था, धक्का लगाने के लिए बोल रहा था,” पति ने कहा।

“क्या तुमने मदद करी उसकी” पत्नी ने पूछा।

“नहीं, मेने नहीं करी! रात के 3 बज रहे हैं अँधेरा हैं और बाहर बारिश भी हो रही हैं!” पति ने कहा।

“अच्छा, क्या तुम्हे याद हैं 4 महीने पहले जब हम मुसीबत में पड़े थे तो 2 लोगो ने हमारी मदद करी थी?  में सोचती हूँ कि तुम्हे उसकी मदद करनी चाहिए। तुम जानते हो, भगवान् हम पर प्रसन्न होंगे।” पत्नी ने कहा।

आदमी इमोशनल हो गया, तैयार होकर बारिश में भी बाहरआया।

बाहर आकर उसने पुकारा, “हेलो, क्या तुम अभी भी यही हो।”

“हा ” उधर से आवाज आई।

“क्या तुम्हे अभी भी धक्का चाहिए।” पति ने पूछा।

“बिलकुल चाहिए, जनाब,” आवाज आई।

“तुम कहा हो में तुम्हे अँधेरे में देख नहीं पा रहा हु,” पति ने कहा।

“यहाँ बगीचे में झूले पर हूँ,” उस आदमी ने कहा।

…………अब पति ने उस आदमी को किस तरह से धक्के लगाए होंगे, ये हमे कमेंट के द्वारा बताये।

और हा इसी तरह से हॅसते रहिये और ज़िन्दगी का आनद लीजिये। हाहाहा…

दोस्तों कैसी लगी ये कहानी हमे कमेंट करके जरूर बताये। और भी बहुत सारी हिंदी नैतिक कहानिया, नैतिक शिक्षा की कहानिया, मोटिवेशनल कहानिया, अच्छी अच्छी कहानिया और प्रेरणादायक कहानिया पढ़ने के लिए यहाँ विजिट करे।आपका इस धाकड़ बाते ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्।

अगर आपके पास भी कोई प्रेरणादायक लेख, कहानी, निबंध या फिर कोई जानकारी हैं, जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं, तो आप हमे dhakadbaate@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं। पसंद आने पर हम आपके नाम के साथ इस ब्लॉग पर पब्लिश करेंगे। साथ ही आप हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक कीजिये। धन्यवाद!

Read more Hindi stories:

Leave a comment