13 भगवत गीता के सबक जो आपकी ज़िन्दगी में बहुत काम आएंगे

श्रीमद भगवत गीता के लोकप्रिय कथन

  1. Slide32जो भी हुआ, अच्छे के लिए हुआ। जो भी हो रहा है, अच्छे के लिए हो रहा है।
    Whatever happened, happened for the good. Whatever is happening, is happening for the good.

  2. सभी मानसिक संताप का स्रोत आपका मन है।
    The source of all mental agitation is your own mind.

  3. Slide34आपको काम पर फोकस करना चाहिए उसके फल पर नहीं।
    You should focus on your result. Not on result

  4. Slide33बुद्धि सही चुनाव करने में मदद करती है। इसे विकसित करें, इसे मजबूत करो।
    The intellect helps to make the right choice. Develop it. Strengthen it.

  5. परिवर्तन ब्रह्मांड का नियम है। आप एक पल में करोड़पति या फिर कंगाल बन सकते है।
    Change is the law of the universe. You can be a millionaire, or a pauper in an instant.

    श्रीमद भगवत गीता के अनमोल विचार

  6. आत्मा न तो पैदा हुई है, और न ही यह मरती है।
    The soul is neither born, and nor does it die

  7. आपके जन्म के समय आप खाली हाथ आये थे और मरते समय भी आप खाली हाथ जाओगे।
    You came empty handed, and you will leave empty handed.

  8. Slide35वासना, क्रोध और लालच। ये आत्म-विनाशकारी नरक के लिए तीन द्वार हैं।
    Lust, anger and greed are the three gates to self-destructive hell.

  9. Slide36मनुष्य अपनी धारणा से बना है। जैसा अपने को वह मानता है, वैसा वह बन जाता है।
    Man is made by his belief. As he believes, so he is.

  10. खुशी की कुंजी इच्छाओं में कमी है।
    The key to happiness is the reduction of desires.

  11. Slide37जब ध्यान में महारत हासिल किया जाता है, तो मन एक निर्बाध स्थान में दीपक की लौ की तरह साबित होता है।
    When meditation is mastered, the mind is unwavering like the flame of a lamp in a windless place.

  12. जो संदेह करता हैं उसके लिए ना तो यह दुनिया है, ना बाहर कोई दुनिया हैं और ना ही उसके लिए ख़ुशी हैं।
    There is neither this world, nor the world beyond. nor happiness for the one who doubts.

  13. श्रीमद भगवत गीता के अनमोल विचारएक व्यक्ति अपने दिमाग के प्रयासों के माध्यम से आगे  बढ़ सकता है; या उसी तरह, खुद को नीचे भी गिरा सकता हैं। क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति खुद अपना मित्र या दुश्मन है।
    A person can rise through the efforts of his own mind; or draw himself down, in the same manner. Because each person is his own friend or enemy.

 

Leave a comment