“2000 का नोट” हिंदी मोटिवेशनल कहानी

हिंदी प्रेरणादायक कहानी

एक सेमिनार हो रहा था। उसमे एक वक्ता ने 2000 का नोट हवा में लहराते हुए कहा, “कौन कौन इस कड़कते नोट को लेना चाहेगा।”download (19).jpg

तो वहा लगभग सभी ने हाथ खड़े कर दिए, भाई नोट किसको अच्छे नहीं लगते हैं।

फिर उस वक्ता ने उस नोट मुट्ठी में लेकर मसल दिया, फिर श्रोताओ से पूछा, ” अब कौन कौन इसको लेना चाहेगा।”
अभी भी लोगो ने हाथ खड़े कर दिए।

अब वक्ता ने उस नोट को पेरो तले कुचल कर, मसल कर गन्दा कर दिया। फिर श्रोताओ से पूछा, “क्या कोई अब भी इस नोट को लेना चाहेगा।”

फिर भी लगभग सभी लोगो ने हाथ खड़े कर दिए।

हिंदी मोटिवेशनल कहानी 

तो अब वक्ता ने कहा, “देखो दोस्तों आज हमने एक बहुत ही कमाल की सिखी हैं। मैंनेइस नोट के साथ इतना सब कुछ करने के बाद भी इसकी वैल्यू कम नहीं हुई, इसकी कीमत 2000 ही रही।

उसी प्रकार जीवन में भी हम बहुत सी बार हारते हैं, गिरते पड़ते रहते हैं, सभी जगह से रिजेक्शन मिलने लग जाते हैं, तो हम ये सोच लेते हे कि, हमारी कुछ भी वैल्यू नहीं रही, हम किसी काम के नहीं रहे। ऐसा भी सोचने लग जाते हैं कि हम इस धरती पर बोझ बन के रह गए हैं।

तो दोस्तों “बीते कल में या वर्तमान में या फिर भविष्य में हमारे साथ कुछ भी हो जाये, फिर भी एक बात याद रखनी हैं कि, हमारी वैल्यू हमसे कोई नहीं छीन सकता हैं। हम स्पेशल हैं, हम चाहे जो कर सकते हैं, इसलिए दुगुने उत्साह के साथ आगे बढ़ो। और दुनिया को ऐसा कर के दिखाओ कि सारी दुनिया देखती रह जाए।”

“निराशा वाले विचारो को उखाड़ फेंको, क्योकि मनुष्य जीवन अमूल्य है, इसे फ़ोकट कि बातो से ओर जटिल मत बनाओ। सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ो और हर मैदान फतह करते जाओ।”

और भी पढ़े:

दोस्तों कैसी लगी ये कहानी हमे कमेंट करके जरूर बताये। और भी बहुत सारी हिंदी नैतिक कहानिया, नैतिक शिक्षा की कहानिया, मोटिवेशनल कहानिया, अच्छी अच्छी कहानिया और प्रेरणादायक कहानिया पढ़ने के लिए यहाँ विजिट करे।आपका इस धाकड़ बाते ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्।

अगर आपके पास भी कोई प्रेरणादायक लेख, कहानी, निबंध या फिर कोई जानकारी हैं, जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं, तो आप हमे dhakadbaate@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं। पसंद आने पर हम आपके नाम के साथ इस ब्लॉग पर पब्लिश करेंगे। साथ ही आप हमसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक कीजिये। धन्यवाद!

और भी पढ़े:

Leave a comment